Showing posts with label मैं पापा की लाडली - मीना पाठक. Show all posts
Showing posts with label मैं पापा की लाडली - मीना पाठक. Show all posts

Sunday, February 24, 2013

मैं पापा की लाडली



















मै अपने पापा 
की  लाडली 
उनकी ऊँगली 
पकड़   कर 
मचलती इठलाती 
थोड़ी ही दूर चली थी 
कि 
काल चक्र ने 
एक झटके से 
उनके हाथ से 
मेरी ऊँगली छुड़ा दी
अब मैं अकेली 
इस निर्जन 
बियावान जंगल 
में 
इधर - उधर 
भटकती   हूँ
एक सुरक्षा भरी 
छाँव  के  लिए 
जहाँ  बैठ  कर
मैं अपने आप को 
सुरक्षित महसूस 
करूँ 
जैसे अपने पापा 
की ऊँगली पकड़ कर 
अपने आप को 
सुरक्षित महसूस 
करती थी 
मैं 
अपने पापा की 
लाडली ।
  • मीना